Autobiography Of A Yogi PDF Free download | Autobiography Of A Yogi In Hindi

“एक योगी की आत्मकथा” बुक पीडीएफ फ्री डाउनलोड

नमस्कार दोस्तों ! आज की इस पोस्ट में आपके लिए हम एक योगी की आत्मकथा पीडीएफ (Autobiography Of A Yogi PDF) लेकर आए हैं। एक योगी की आत्मकथा पीडीएफ (Autobiography Of A Yogi PDF) परमहंस योगानंद जी के जीवन पर आधारित है। इसमें परमहंस योगानंद जी के जीवन और आध्यात्मिक विकास का विस्तार से वर्णन किया गया है।

एक योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) पुस्तक परमहंस योगानंद जी एक सबसे प्रसिद्ध पुस्तक है। इस पुस्तक में परमहंस योगानंद जी के बाल जीवन, उनके पहले स्कूल, एक भिखारी बनने, अपने गुरु की खोज, योगदा सत्संग ब्रह्मचर्य विद्यालय की स्थापना तथा उनकी अमेरिका की यात्रा आदि घटनाओं का बहुत ही सुंदर और आकर्षक वर्णन इस पुस्तक में शामिल किया गया है एक योगी की आत्मकथा पीडीएफ (Autobiography Of A Yogi PDF) का डायरेक्ट डाउनलोड लिंक आपको पोस्ट में आगे दिया गया है, जहां से आप एक योगी की आत्मकथा पीडीएफ (Autobiography Of A Yogi PDF) को मात्र एक में सरलता से डाउनलोड कर सकते हैं।

एक योगी की आत्मकथा क्या है (What is Autobiography Of A Yogi)

Autobiography Of Yogi PDF Download In Hindi, Autobiography Of A Yogi PDF In Hindi, Autobiography Of A Yogi PDF, Autobiography Of Yogi PDF Download, Autobiography Of A Yogi PDF Free download, Autobiography Of A Yogi In Hindi

किसी लेखक द्वारा स्वयं अपने जीवन का वर्णन हिंदी साहित्य की जिस विधा के अंतर्गत किया जाता है उसे आत्मकथा कहते हैं। यह विधा संस्मरण विधा से कुछ मिलती-जुलती है परंतु उससे भिन्न है। संस्मरण में लेखक अपने आसपास के समाज, वातावरण, परिस्थितियों ओर अन्य घटनाओं के विषय में लिखता हैं जबकि आत्मकथा में लेखक स्वयं विषय का केन्द्र होता है।

एक योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) परमहंस योगानंद जी के जीवन पर आधारित एक आत्मकथा है। एक योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) पुस्तक में परमहंस योगानंद जी के बचपन के पारिवारिक जीवन, उनके पहले स्कूल, एक भिखारी बनना, अपने गुरु स्वामी श्री युक्तेश्वर जी की खोज, योगदा सत्संग ब्रह्मचर्य विद्यालय की स्थापना तथा उनकी अमेरिका की यात्रा का बहुत ही सुंदर और आकर्षक वर्णन किया गया है, जहां परमहंस योगानंद जी ने हजारों लोगों को व्याख्यान दिया, एक योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) पुस्तक में सेल्फ-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप की स्थापना और लूथर बरबैंक, जो एक प्रसिद्ध वनस्पतिशास्त्री हैं और जिनके लिए यह पुस्तक समर्पित है, के साथ मुलाकात का भी वर्णन मिलता है।

एक योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) पुस्तक के अंत में सन् 1935 ईस्वी में परमहंस योगानंद जी की भारत वापसी की यात्रा का वर्णन भी शामिल है, जहां परमहंस योगानंद जी की मुलाकात बवेरिया में थेरेसी न्यूमैन, महात्मा गांधी, हिंदू संत आनंद मोई मां, रवीन्द्रनाथ टैगोर आदि ऐसी ही और प्रमुख आध्यात्मिक हस्तियों से हुई थी।

Autobiography Of Yogi PDF Download In Hindi, Autobiography Of A Yogi PDF In Hindi, Autobiography Of A Yogi PDF, Autobiography Of Yogi PDF Download, Autobiography Of A Yogi PDF Free download, Autobiography Of A Yogi In Hindi

एक योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) पुस्तक का नैतिक यह है कि मनुष्य के जीवन का उद्देश्य इस संसार के तूफानी समुद्र (कर्म चक्र, जीवन और मृत्यु की पुनरावृत्ति आदि) से पार पाना होना चाहिए। परमहंस योगानंद जी की यह आत्मकथा मनुष्य को यह सत्य पहचानने के लिए प्रेरित करती है कि जो शरीर मनुष्य के पास है, वह शरीर एक ऐसी आत्मा है जो सदैव स्वतंत्र है और अविनाशी है तथा सदैव मृत्युहीन रहती है।

सन् 1999 ईस्वी में, हार्पर कॉलिन्स प्रकाशकों द्वारा एक पैनल बुलवाया गया। इस पैनल के धर्मशास्त्रियों और दिग्गजों के द्वारा एक योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) पुस्तक को 20वीं सदी की 100 सबसे महत्त्वपूर्ण आध्यात्मिक पुस्तकों की सूची में शामिल किया गया था। इस पुस्तक की लगभग चार मिलियन से अधिक प्रतियां बिक चुकी हैं। परमहंस योगानंद जी की पुस्तकों में एक योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) पुस्तक सबसे लोकप्रिय पुस्तक है। एसआरएफ (SRF) द्वारा इस पुस्तक को पचास से भी ज्यादा भाषाओं में प्रकाशित किया जा चुका है। इस पुस्तक ने प्रकाशित होने के बाद से कई पश्चिमी लोगों को ध्यान और योग से अवगत कराया है।

एक योगी की आत्मकथा पीडीएफ फ्री डाउनलोड (Autobiography Of A Yogi PDF Free download)

 योगी की आत्मकथा पीडीएफ (Autobiography Of A Yogi PDF) डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए गए डाउनलोड पर क्लिक करें :-

पुस्तक का नाम / Name of Book 

एक योगी की आत्मकथा पीडीएफ / Autobiography Of A Yogi PDF

पुस्तक के लेखक / Author of Book

परमहंस योगानंद / Paramahamsa Yogananda

पुस्तक की भाषा / Language of Book

हिंदी / Hindi

फाइल प्रारूप / File Format

पीडीएफ / PDF

पुस्तक का आकार / Size of E-book 

16.5 MB

पुस्तक में कुल पृष्ठ / Total pages in E-book

736 पृष्ठ

Autobiography Of Yogi PDF Download In Hindi, Autobiography Of A Yogi PDF In Hindi, Autobiography Of A Yogi PDF, Autobiography Of Yogi PDF Download, Autobiography Of A Yogi PDF Free download, Autobiography Of A Yogi In Hindi

एक योगी की आत्मकथा पीडीएफ फ्री डाउनलोड (Autobiography Of A Yogi PDF Free download)

You have to wait 45 seconds.

Generating PDF link…


निष्कर्ष :- उम्मीद करता हूं कि योगी की आत्मकथा पीडीएफ (Autobiography Of A Yogi PDF) की यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी और आपके लिए बहुत फायदेमंद भी रही होगी। इसलिए इस पोस्ट को अपने दोस्तों और अन्य सोशल नेटवर्क पर जरूर शेयर करें। यदि योगी की आत्मकथा पीडीएफ (Autobiography Of A Yogi PDF) का डाउनलोड लिंक ठीक से काम नहीं कर रहा है या फिर योगी की आत्मकथा पीडीएफ (Autobiography Of A Yogi PDF) डाउनलोड करने में और कोई दिक्कत आ रही है तो आप कमेंट द्वारा बता सकते हैं और साथ ही अगर आपको अन्य किसी पीडीएफ की भी आवश्यकता है तो भी आप कमेंट या फिर कांटेक्ट पेज के द्वारा हमें बता सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-

FAQs : Frequently Asked Questions

Q : एक योगी की आत्मकथा की सामग्री क्या है?

Ans : एक योगी की आत्मकथा में परमहंस योगानंद जी के बचपन के पारिवारिक जीवन, उनके पहले स्कूल, अपने गुरु स्वामी श्री युक्तेश्वर जी की खोज, एक भिखारी बनना, योगदा सत्संग ब्रह्मचर्य विद्यालय की स्थापना तथा उनकी अमेरिका की यात्रा का बहुत ही सुंदर और आकर्षक वर्णन किया गया है।

Q : एक योगी की आत्मकथा का नैतिक क्या है?

Ans : एक योगी की आत्मकथा का नैतिक यह है कि मनुष्य के जीवन का उद्देश्य इस संसार के तूफानी समुद्र (कर्म चक्र, जीवन और मृत्यु की पुनरावृत्ति आदि) से पार पाना होना चाहिए। यह आत्मकथा मनुष्य को यह सत्य पहचानने के लिए प्रेरित करती है कि मनुष्य के पास जो शरीर है वह एक ऐसी आत्मा है जो सदैव स्वतंत्र है, अविनाशी है और मृत्युहीन रहती है।

Q : आत्मकथा में किसका जीवन प्रस्तुत किया जाता है?

Ans : किसी लेखक द्वारा स्वयं अपने जीवन का वर्णन हिंदी साहित्य की जिस विधा के अंतर्गत किया जाता है उसे आत्मकथा कहते हैं। यह विधा संस्मरण विधा से कुछ मिलती-जुलती है परंतु उससे भिन्न है। संस्मरण में लेखक अपने आसपास के समाज, वातावरण, परिस्थितियों ओर अन्य घटनाओं के विषय में लिखता हैं जबकि आत्मकथा में लेखक स्वयं विषय का केन्द्र होता है।

Q : योगी की आत्मकथा पढ़ने में कितना समय लगता है?

Ans : औसत पाठक द्वारा इस योगी की आत्मकथा (Autobiography Of A Yogi) पुस्तक को 250 WPM (शब्द प्रति मिनट) की गति से पढ़ने में 9 घंटे और 56 मिनट का समय लगता है। किंतु इसको एक उपन्यास की भांति न पढ़ें और आत्मकथा के प्रत्येक अध्याय के बीच में कुछ समय अंतराल दें।

1 thought on “Autobiography Of A Yogi PDF Free download | Autobiography Of A Yogi In Hindi”

  1. I’ve been surfing online greater than three hours nowadays, but I never
    found any attention-grabbing article like yours. It’s pretty value
    sufficient for me. Personally, if all webmasters and bloggers made excellent content material as you probably did, the internet can be a lot more useful than ever before.

    Reply

Leave a Comment